ourhindistory.in

 

जादुई कुआं

जादुई कुआं

जादुई कुआं | Jadui kua

जादुई कुआं

एक समय की बात है कि एक गांव से थोड़ी दूर एक इच्छा पूरी करने वाला कुआं था और सभी लोग इच्छाओं को पूरा करने के लिए कुएं के पास आते हैं और अपनी इच्छा हुए के सामने बोलते और कुएं में सिक्का डाल देते थे और कुछ ही दिनों बाद सभी की इच्छाएं पूरी हो जाती थी गांव के लोग तरह-तरह की इच्छाएं मांगा करते थे जैसे बंगला गाड़ी, धन दौलत जैसी इच्छा मांगा करते थेपरंतु जैसे-जैसे कुआं बुड्ढा हो रहा था उसकी शक्ति कम होती जा रही थी एक समय ऐसा आया कि लोग कुए से इच्छाएं तो मांग रहे थे परंतु वह अच्छा पूरी नहीं हो रही थी क्योंकि कुए की शक्ति चली गई थी और लोगों की इच्छा पूरा ना होने के कारण कुआं भी बहुत ही उदास था कुआं मन में सोच रहा था की लोग मेरे पास अपनी इच्छाएं लेकर आते हैं और सोचते हैं कि मैं इनको पूरा कर दूंगा परंतु मैं उनकी इच्छाएं पूरा करने में असफल हो गया हूं

मैं उनको खुश नहीं रख पा रहा हूं और एक बार एक नन्ही लड़की जिसका नाम रेशमा था वह कुएं के पास आती है और कुए से कहती है कि मेरे मम्मी पापा दोनों ही सुबह काम के लिए निकल जाते हैं परंतु मैं घर पर अकेले बोर हो जाती हूं और मेरा कोई दोस्त भी नहीं है कि मैं उनके साथ खेल पाऊं इसलिए मुझे एक दोस्त दे दो जो मेरे साथ खेल सके और मैं अपना पूरा समय उसके साथ बिता सकूंकुआं उस नन्ही लड़की की इच्छाएं सुनकर और उसे ना पूरा होने के डर से रोने लगता है और भगवान से यह प्रार्थना करता है कि भले ही मेरी पूरी शक्ति चली गई हो परंतु इस नन्ही लड़की की इच्छा पूरा करने के लिए मुझे थोड़ी देर के लिए ही वह शक्ति दे दो परंतु उसकी शक्ति नहीं आती और वह रोने लगता है

पास ही के जंगल में एक परी रोने की आवाज सुनकर उस कुएं के पास आती है और कहती है कि तुम क्यों रो रहे हो कुआं कहता है कि लोग मेरे पास अपनी एक चाय लेकर आते हैं और वह सोचते हैं कि मैं उनकी इच्छाओं को पूरा करूंगा परंतु मेरी शक्ति खत्म हो जाने के कारण मैं उन इच्छाओं को पूरा नहीं कर पा रहा हूं इसकी वजह से मैं बहुत ही परेशान हूं क्या आपके पास इसका कोई हल है और आप मेरी शक्ति वापस कर सकते हो

परी कहने लगती है कि मेरे पास तो इसका कोई हल नहीं परंतु दोस्त मत रो मैं पहाड़ पर रहने वाले उस इच्छा पूरे करने वाले कछुए से इसका हल पूछ कर तुम्हें जरूर बताऊंगी और परी उस पहाड़ की तरफ होने लगती है और कुछ ही देर बाद परी उस कछुए के पास पहुंच जाती है जो इच्छापूर्ति कछुए के नाम से भी जाना जाता है और इच्छापूर्ति कछुआ परी से कहता है क्या मैं तुम्हारे यहां आने की वजह पूछ सकता हूं परी कहती है

मेरा दोस्त इच्छा पूरा करने वाला कुआं वह बहुत ही परेशान है क्योंकि बुड्ढा होने के कारण उसकी सारी शक्ति चली गई है क्या आप ऐसा कोई हाल बता सकते हो जिसकी वजह से उसकी सारी शक्ति आ जाए और वह लोगों की इच्छाएं दोबारा पूरी करने लगे इच्छापूर्ति कछुआ ने कहा क्या तुम वह नदी देख रहे हो परी कहती है हां मैं वह नदी देख सकती हूं इच्छापूर्ति कछुआ कहता है बस तुम्हें इस नदी का थोड़ा जल ले जाकर उस कुएं में जाकर मिलाना है और वह कुआं फिर दोबारा से लोगों की इच्छाएं पूरा कर सकेगा

परी उस नदी का थोड़ा सा जल ले जाती है और कुएं में मिला देती है और फिर से कुएं की सारी शक्ति वापस आ जाती है और और सभी की इच्छाएं पूरी होने लगती है और कुछ ही दिनों में वह नन्ही लड़की कुएं के पास आती है और कहती है धन्यवाद मुझे एक दोस्त देने के लिए जो मेरे साथ दिन भर खेल सके

उस नन्ही लड़की की इच्छाएं पूरा करने के बाद वह कुआं बहुत ही खुश होता है और उस दिन से वह सभी लोगों की इच्छाएं पूरा करने के लिए तैयार रहता है