ourhindistory.in

 

भारत की कहानी

भारत की कहानी | Bharat ki kahani

भारत की कहानी

भारत की संपूर्ण कहानी

हम आपको भारत की संपूर्ण कहानी सुनाने जा रहे हैं जिसमें भारत की महानता एवं उनकी वीर सपूतों की  कहानी बताएंगे और भारत को क्यों कहा जाता था सोने की चिड़िया इसके पीछे का क्या कारण है भारत अन्य देशों की तुलना महान क्यों है इस कहानी को पढ़कर आपको वीर योद्धाओं के बारे में पता चलेगा जो मातृभूमि के लिए अपने जीवन हंसी खुशी कुर्बान कर दिये

भारत की महान एवं खुशहाली

हम सभी जानते हैं कि भारत कितना महान देश है। भारत की महानता केवल इस बात से लगाया जा सकता है कि भारत को सोने की चिड़िया तथा वीरों को जन्म देने वाली भूमि कहा जाता है भारत में ऐसे ऐसे महान महान ऋषि मुनि जन्म लिए जो भगवान के ही अवतार रहे और पूरी दुनिया को शिक्षित करके गए यही नहीं बल्कि भगवान स्वयं भारत के भूमि पर जन्म लिये जैसे राम भगवान, श्री कृष्ण, हनुमान जी ,भगवान परशुराम आदि यह सभी भगवान भारत में कोई लीला रच कर लोगों को सीख दिये की बात चाहे जितना भी बड़ा हो उसका अंत अवश्य होता है

भगवान की दो लीलाएं

 रामायण – रामायण के समय रावण करके एक राक्षस हुआ करता था जो एक ब्राह्मण और शिव भगवान का बहुत बड़ा भक्त था वह बहुत ही शक्तिशाली एवं अत्याचारी था तीनो लोगों पर अपना राज्य जमाया हुआ था उससे तीन और लोग थरथर कांपते थे रावण से देवता भी भय खाते थे तीनों लोगों को रावण के अत्याचार से मुक्त करने के लिए प्रभु राम ने भारत के भूमि पर जन्म लिया और रावण रावण के वध करके तीनों लोगों को उसके अत्याचार से मुक्त किया

 महाभारत – महाभारत के समय श्री कृष्ण ने अनेकों पापियों को वध करने के लिए जन्म लिया  इनमें से एक का नाम कंश था काश बहुत ही अत्याचारी राजा था जो स्वयं को भगवान मानता था कंस कहने को तो कृष्ण भगवान के मामा था लेकिन उन्हीं को मारने के लिए  अपनी ही बहन और उसके पति को कारागार में कैद कर लिया ताकि कृष्ण भगवान का जन्म लेते ही वह उसे मार सके जब कृष्ण भगवान को कारागार में मारने में असफल रहा तो उसने भगवान को मारने के लिए राक्षसों को भेजना शुरू कर दिया लेकिन वह असफल रहा और कृष्ण भगवान ने कंस को मारकर इस दुनिया को उसके पाप से मुक्त किया

भारत को सोने की चिड़िया क्यों कहा था

भारत में प्राचीन राजाओं के पास में बहुत हीरा, कीमती पत्थर ,कोहिनूर, सोना, चांदी आदि हुआ करता था भारत दुनिया के सबसे बड़े व्यापारिक देश था यहां मसालों एवं अन्य पदार्थों का निर्माण होता था जैसे कि कपड़ा , हीरा, सोना, चांदी, जुट शराब आदि यहां निर्माण होता था इसलिए भारत बहुत ही अमीर था
भारत को सोने की चिड़ियां कहने का एक कारण मयूर सिंहासन भी है जो कि सोने एवं हीरे से बने सिंहासन थी जिसकी कीमत आज करोड़ों-अरबों में है इस सिंहासन यही नहीं बल्कि आज भी भारत के कुछ मंदिरों में इतना सोना भरा हुआ है उस सोने से केई देशों को खरीदा जा सकता है लेकिन यह कोई नहीं जानता कि सोना कहां और किस जगह छुपा हुआ है आज भी कई मंदिरों में इतना सोना भरा हुआ है जिसे भारत दुनिया के सबसे अमीर देश बन सकता है छुपा हुआ खजाने का एक रहस्य है जो अभी तक नहीं सुलझ पाया है
कहां जाता है कि अशोक सम्राट के पास दुनिया का सबसे बड़ा खजाना था  उनके पास ऐसा माध्यम था जिससे कोई भी वस्तु को वे सोने में परिवर्तित कर सकते थे आज के समय में या एक रहस्य बन चुका है और इसका रहस्य अभी तक कोई नहीं सुलझा पाया है पटना के अगम कुआं में भी बहुत सोना छुपा हुआ है जिसमें अशोक सम्राट अपने खजानो को छुपा कर रखते थे आज के माध्यम से उसको यह कोई बहुत सुख आने की कोशिश की गई लेकिन सभी नाकामयाब रहे यह एक रहस्य है
प्राचीन दिनों में भारत देश में कितने अन्य देशों से आए थे लेकिन भारत का चमक तथा गुणों को देख भारत में ही बस जाते थे । क्योंकि भारत एक खुशाल तथा आकर्षक देश था और कुछ लोग इसे लूटने का भी विचार से आए थे।
भारत में ऐसे महान महान पुरुष तथा वीर पुरुष जन्म लिए इसके बारे में हमें जानकर हम सब को गर्व होता है। इन्हें इन्होंने अपने मातृभूमि रक्षा हेतु अपना प्राण का आहुति दे दिए

 मातृभूमि के लिए आहुति देने वाले आचार्य चाणक

 आचार्य चाणक्य जो एक महान विद्वान पंडित थे  उनकी बुद्धि एवं चतुराई भारतवर्ष में चारों ओर फैली हुई थी वे कभी भी अपने दुश्मनों को हराने के लिए बल का प्रयोग नहीं बल्कि उनकी बुद्धि ही उनके दुश्मनों को पराजित कर देती थी एक दिन जब आचार्य चाणक्य के घर में ज्योतिषी आया और वह अचानक का दांत देखकर बता दिया कि यह बालक भविष्य में एक बहुत बड़ा राजा बनेगा लेकिन उन्होंने उस दांत को पत्थर से तोड़ दिया क्योंकि उनकी मां नहीं चाहती थी कि वह अत्याचारी राजा बने. जब धनानंद करके एक अत्याचारी राजा हुआ करता था वह अपने प्रजा पर घनघोर अत्याचार करता था एक दिन आचार्य चाणक्य धनानंद से मिलने गया लेकिन धनानंद उनका बहुत ही अपमान किया और उन्हें राज्यवार से घसीट कर बाहर फेंकवा दिया तभी उन्होंने धर्म के सामने उसे उसके ही राज गद्दी से उतारने का प्रतिज्ञा ले लिया और एक साधारण बालक को भारत का महान सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य बना दिये और दोनों मिलकर धनानंद को खत्म कर एक अखंड भारत का निर्माण किया और अपना जीवन मातृभूमि के लिए समर्पित कर दिए

सम्राट अशोक सम्राट

अशोक सम्राट चंद्रगुप्त मौर्य का पोत्र थे जो कि भारत चक्रवर्ती सम्राट बने इनके तरह शायद ही कोई राजा होगा इतने वीर थे कि उन्होंने जीवन में केई युद्ध लड़े सब में विजय हुए इन्होंने अपने जीवन में एक भी युद्ध नहीं आ रहा था अशोक सम्राट पूरे भारत को जीत चुके थे इसलिए ये भारत के चक्रवर्ती सम्राट के नाम से भी प्रसिद्ध है इन्होंने कई अत्याचारों राजाओं को मौत के घाट उतार दिया अशोक सम्राट के नाम से दुश्मन डर से थरथर कांपते थे जितना इनसे दुश्मन नफरत करते उतना ही प्रजा इनसे प्रेम करती। एक बहुत बड़े युद्ध के दौरान अशोक सम्राट ने देखा की चारों ओर लाशें ही लाशें पड़ी थी सभी महिला विधवा होकर अपने आप को सती कर रही थी यह सब देखकर अशोक सम्राट विचलित हो उठे और उनका हृदय परिवर्तित हो गया और जीवन में कभी नहीं युद्ध करने की प्रतिज्ञा कर लिया और वह युद्ध के मार्ग को छोड़कर गौतम बुध के शांति मार्ग को अपना लिया
छत्रपति शिवाजी, महाराणा प्रताप आदि यह सब वीर योद्धा ने अपने मातृभूमि के लिए अपने जीवन का आहुति दे दी। स्वामी विवेकानंद जो कि एक महान इंसान थे जो भी किताब को एक बार पढ़ लेते वह कभी नहीं भूलते थे ऐसे- ऐसे महान इंसान हमारे देश में जन्म लिए थे।
भारत में इतना सोना चांदी तथा हीरे थे की आने देश के लोगों का बुरी नजर हमारे देश पर था। सिकंदर एक विश्व विजेता योद्धा था लेकिन वह हमारे देश को नहीं जीत पाया अंत उसने भी हार मान लिया समझ गया कि भारत को जितना आसान नहीं है। क्योंकि इसकी रक्षा करने महान महान वीर योद्धा अपने जीवन को आहुति दे देते हैं बिना अपने जीवन के बारे में सोचें भारत में आज भी बहुत खजाना छुपा है। जो कि एक रहस्य है किंतु हमारा देश भारत महान था महान है और रहेगा