ourhindistory.in

 

रतन टाटा का जीवन परिचय (biography of Ratan Tata 2022)

रतन टाटा का जीवन परिचय (biography of Ratan Tata 2022)

रतन टाटा जीवनी, जीवन परिचय (शिक्षा, जन्म तारिक पुरस्कार, माता, पिता, पत्नी, नागरिता, जाती,आयु, करियर,कुल संपत्ति, थॉट्स) Ratan Tata Biography (education, age, cast, date of birth,
 आप लोग बहुत से बिजनेसमैन को जानते होंगे जो अपने फायदे के लिए कुछ भी कर सकते हैं लेकिन आज जिसके जिवन के बारे में बताने जा रहे हैं वह इन बिजनेस मैन से विभिन्न और बहुत ही महान है और हमारे देश के लिए एक वरदान है कि वह अभी भी जिंदा है इसकी वजह से ना जाने कितने लोगों की जिंदगी सबर चुकी है जी हां मैं बात कर रहा हूं देश के महान व्यक्ति रतन टाटा जी का जो कि भारत का 4 प्रतिशत अर्थ टीसीएस कंपनी के पास है  उस आर्टिकल के द्वारा मैं आपको रतन टाटा जी के बारे में संपूर्ण जानकारी देगे यह इंसान के बारे में जानकर आपको बेहद खुशी होगी कि हमारे देश में ऐसे इंसान भी हैं‌ भारत देश के लिए देश की भलाई करते हैं और हमेशा सत्य वचन कहते हैं

रतन टाटा जी की सफलता का सफर और संघर्ष (motivational success story of Ratan Tata)

 रतन टाटा का जीवन परिचय 

नाम
रतन‌ टाटा
जन्म
28 दिसंबर 1937, सूरत (गुजरात)
माता-पिता का नाम
नवल टाटा (पिता) और सोनू टाटा (माता)
शिक्षा कहां से की प्राप्त
कॉर्नेल विश्वविधालय, हार्वर्ड विश्वविधालय
व्यवसाय
टाटा समूह के निवर्तामान अध्यक्ष
व्यवसाय की शुरूआत
1952
पुरस्कार
पद्मा विभूषण (2008) और ओबीई (2009)
शिक्षा
बी.एस. डिग्री संरनात्मक इंजीनियरिंग एवं वास्तुकला में उन्नत प्रबंधन कार्यक्रम
जीवनसाथी
अविवाहित
नागरिकता
भारतीय

 रतन टाटा जी शुरुआती जीवन  बारे में

 रतन टाटा जी का जन्म देश के प्रसिद्ध उघोगपति का जन्म 28 दिसंबर 1937 को सूरत शहर में हुआ। टाटा के पिता का नाम नवल टाटा है रतन टाटा को नवजबाई टाटा गोद लिया था इसा लिए क्योंकि नवजबाई टाटा के पति निधन के कारण वे अकेली पर गई जिसके कारण उन्होंने रतन टाटा को गोद ली। टाटा 10 साल के और उनके छोटे भाई जिम्मी 7 साल का था तभी उनके माता-पिता से अलग हो गए और इन दोनों भाइयों को भी अलग होना पड़ा लेकिन इनकी दादी नवजबाईइन दोनों पोतो को पालन पोषण में कोई कमी नहीं रखी और दोनों को एक अच्छा परिवेश दिया रतन टाटा के दादी अनुशासन को जितनी सख्ती से पालन करती थी उतना ही दिल से अच्छी थी हम आपको बता देना चाहते हैं कि रतन टाटा का एक और सौतेला भाई है जिसका नाम नोएल टाटा। किसको पियानो बजाना और क्रिकेट खेलना बहुत पसंद है

 रतन टाटा की शिक्षा

रतन टाटा के शिक्षा का आरंभ मुंबई के कैंपियन स्कूल में हुई थी जहां पर उन्होंने आठवीं कक्षा तक शिक्षा ग्रहण किया उसके बाद वे कैथेड्रल एंड जॉन कॉनन स्कूल चले गए और वहां पर आगे की पढ़ाई जारी की थी स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के बाद  बी.एस वास्तुकला में स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के साथ कॉर्नेल विश्वविधालय से 1962 में पूरी की। इसके बाद उन्होंने हार्वर्ड बिजनेस स्कूल में एडमिशन लिया जहां उन्होंने 1975 एडवांस मैनेजमेंट का कोर्स पुरी की।

 रतन टाटा के करियर की शुरूआत

रतन टाटा भारत लौटने से पहले लॉस एंजिल्स, कैलिफोर्निया में जोन्स एंड एमोंस कुछ समय तक काम किया लेकिन की दादी की खारा तबीयत के कारण उन्हें अमेरिका में सेटल होने का सपना छोड़कर वापस भारत आना पड़ा इसके बाद उन्होंने आईबीएम कितने का किया लेकिन उनके पिता जेआरडी टाटा को यह काम पसंद नहीं था तभी के पिता ने रतन टाटा को अपने टाटा ग्रुप में काम करने का अवसर दिया और यहीं 1961 से हुई रतन टाटा के कैरियर की शुरुआत ।
 1971 में रतन जी नेल्को कंपनी रेडियो और इलेक्ट्रॉनिक में डायरेक्टर के पद पर शामिल हुए जीवन में जमशेद जी  टाटा रतन टाटा को टाटा ग्रुप के नया अध्यक्ष बना दिया उसके बाद रतन टाटा अपनी मेहनत और काबिलियत से टाटा इंडस्ट्री उस शिखर पर पहुंचा दिया जहां पर केवल कुछ ही लोग पहुंच पाते हैं ‌ और उन्होंने एक इतिहास बना दिया
 जब टाटा इंडस्ट्री को अटेंड टाटा ने ऊंचाइयों पर ले गए उनके नेतृत्व में टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने पब्लिक इशू जारी किया और टाटा मोटर्स न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध किया गया। रतन टाटा के निर्देश पर टाटा मोटर में एक भारतीय टाटा इंडिका मोटर कार लांच किया उसके बाद टाटा मोटर्स ने एक और कार को लांच किया नैनो कार जो कि बहुत ही सस्ती गाड़ी थी इसे कोई भी आम व्यक्ति आप खरीद सकता था खाना के मार्केट में या कार उतना नहीं चले इसके बाद टाटा ने इतनी महंगी महंगी और लग्जरी गाड़ी निकाली टाटा टी ने टेटली, टाटा मोटर्स ने ‘जैगुआर लैंड रोवर’ और टाटा स्टील ने ‘कोरस’ का अधिग्रहण किया।

 रतन टाटा का प्रेम कहानी और उन्होंने शादी क्यों नहीं की

 एक बार रतन टाटा अमेरिका गए हुए थे और उन्हें एक लड़की लॉस एंजिल्स से मुलाकात हुई धीरे-धीरे दोनों में बात होना शुरू हुआ दोस्ती आगे बढ़ती रही इसके बाद दोस्ती प्यार में बदल गया दोनों एक दूसरे से बेहद ही प्रेम करते थे और दोनों एक दूसरे से शादी करना चाहते थे जब वे दोनों शादी करने फैसला करते हैं लेकिन तभी एक बेहद बुरी खबर  आती है कि उसकी दादी बहुत ही बीमार है और उन्हें भारत वापस बुला रही है तो रतन टाटा जी शादी रोक कर इंडिया जाने का तैयारी करते हैं और उस लड़की को भी साथ चलने को कहते हैं लेकिन उस लड़की के माता-पिता इंडिया भेजने को तैयार नहीं थे रतन टाटा उस लड़की से वादा किये भारत से लौटते हैं उनसे शादी करेंगे और वह किसी से भी वह शादी नहीं करेंगे और वह लड़की भी उनसे वादा की। रतन टाटा जी भारत वापस आए और उस लड़की का इंतजार कर रहे थे कि वह भारत उनसे मिलने आएंगी गोकुल पता चला कि लड़की के माता-पिता उनका शादी किसी ओर लड़के से अमेरिका में करवा दिए हैं जब यह बात रतन टाटा जी को पता चलते ही उनका दिल टूट गया. वह लड़की रतन टाटा जी को धोखा दें लेकिन रतन टाटा जी अपने वादे पर अरे रहे और अपनी जिंदगी में किसी भी लड़की को शामिल नहीं किया और ना ही कभी शादी की है ऐसा त्याग शायद ही आज के जमाने में कोई किसी के लिए देता है इतना महान  है रतन टाटा जी.

 रतन टाटा की कुल संपत्ति

 यदि टाटा ग्रुप कंपनी की मार्केट वैल्यू की बात करें तो लगभग 70 लाख करोड़ की है रिपोर्ट के अनुसार उनकी कुल संपत्ति 117 लाख डॉलर है यानी कि अगर भारत के करेंसी में देखा जाए तो यह लगभग 8.25 लाख करोड़ होते हैं  रतन टाटा जी इनमें से 64 प्रतिशत रुपया लोगो की मदद करने में दान करते हैं यही कारण है कि दुनिया के अमीर व्यक्तियों के लिस्ट में रतन टाटा की नहीं आते हैं यदि वह दान ना करें तो वह दुनिया के  प्रथम अमीर व्यक्तियों में भी शुमार हो सकते लेकिन वह भले ही दुनिया के अमीर व्यक्तियों के लिस्ट में नहीं आते हो लेकिन दुनिया के दिलों में समाए रहते हैं

 रतन टाटा को मिला सम्मान और पुरस्कार

 रतन टाटा को भारत सरकार की ओर से पद्म भूषण (2000) और पद्म विभूषण (2008) में दिया गया। ये सम्मान देश के तीसरे और दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान में से एक है। इसके अलावा उन्हों कई अवार्ड से सम्मानित किया गया है जैसे कि
1
2001
बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के मानद डॉक्टर
 
2004
उरुग्वे के ओरिएंटल गणराज्य की पदक
 
2004
प्रौद्योगिकी के मानद डॉक्टर
 
2005
साइंस की मानद डॉक्टर
 
2006
साइंस की मानद डॉक्टर
 
2007
मानद फैलोशिप
 
2007
परोपकार की कार्नेगी पदक
 
2008
लीडरशिप अवार्ड
 
2008
लॉ की मानद डॉक्टर
 
2008
साइंस की मानद डॉक्टर
 
2008
मानद नागरिक पुरस्कार
 
2008
मानद फैलोशिप
 
2009
ब्रिटिश साम्राज्य के आदेश के मानद नाइट कमांडर                  
 
2009
2008 के लिए इंजीनियरिंग में लाइफ टाइम योगदान पुरस्कार
 
2009
इतालवी गणराज्य की मेरिट के आदेश के ‘ग्रैंड अधिकारी’ का पुरस्कार
 
2010
                लॉ की मानद डॉक्टर
 
2010
हैड्रियन पुरस्कार
 
2010
शांति पुरस्कार के लिए ओस्लो व्यापार
 
2010
लीडरशिप अवार्ड में लीजेंड
 
2010
कानून की मानद डॉक्टर

FAQ

 Q- रतन टाटा ने शादी क्यों हीं की?

Ans- ऐसा कहा जाता है कि, रतन टाटा को लॉस एंजिल्स से प्यार हुआ लेकिन किसी कारण वे दोनों शादी नहीं कर पाए  उनकी प्रेमिका का शादी किसी और से हो जाने के बाद उन्होंने अपने जीवन में किसी दूसरी महिलाओं को शामिल नहीं किया क्योंकि लॉस एंजिल्स से सच्चा प्यार करते थे

 Q- टाटा बिरला के पास कितना पैसा है?

Ans- इस समय करीबन 7,350 करोड़ रुपये।

 Q- टाटा की स्थापना कब हुई?

Ans- सन् 1868 में इसकी स्थापना की गई।

 Q- रतन टाटा दुनिया के अमीर लोगों की लिस्ट में क्यों नहीं है शामिल?

Ans- ऐसा इसलिए क्योंकि रतन टाटा आधा से ज्यादा पैसों को देश के लिए दान कर देते हैं

 Q- रतन टाटा को भारत सरकार की और से किन पुस्कारों से किया गया था सम्मानित?

Ans- पद्म भूषण और पद्म विभूषण से किया गया था सम्मानित।