ourhindistory.in

 

शेर और लोमड़ी

शेर और लोमड़ी | Sher aur lomhri

शेर और लोमड़ी

एक बार की बात है एक जंगल में एक शेर और लोमड़ी रहते थे दोनों बिना आवाज किए शिकार के लिए आगे बढ़ रहे थे तभी एक शांत हाथी घास खा रहा था उसे नहीं मालूम था की उसका कोई पीछा कर रहा है हाथी अपने सूधं से आवाज निकाला लोमड़ी शेर से बोला आप कितना देर इंतजार करेंगे शेर बोला चुप रहो नहीं तो हाथी भाग जाएगा। तभी हाथी ने शेर का आवाज सुन लिया और वहां से भागने लगा तो शेर हाथी का शिकार करने उसके पीछे भागता है। और शेर के पीछे लोमड़ी भागता है हाथी अपनी जान बचाने के लिए तेजी से भागता है लेकिन उसके सामने एक बहुत बड़ा सा पत्थर आ जाता है और शेर उस पत्थर के ऊपर से छलांग लगाकर उस हाथी के सामने आ जाता है तभी हाथी डरकर पीछे धीसकने लगती है तभी शेयर उस पर झपट मारता है लेकिन हाथी अपने शोर और ताकत से शेर को दे मारती है अपने सूधं पटक-पटक कर शेर का हड्डी तोड़ देता है। शेर घायल हो जाता है हाथी उसे अपने पैर से कुचलने वाला रहता है कि तभी लोमड़ी आ जाता है और हाथी से माफी मांगने लगता है शेर की जान का भीख मांगता है हाथी दयालु होता है और वह शेर का जान नहीं लेता है। शेर घायल अवस्था में दर्द से बिल- बिलता रहता है शेर और लोमड़ी वही सो जाते हैं सुबह होता है तभी लोमड़ी शेर से कहता है कि तुमने मेरा नाक कटा दिया तुम शिकार से ही बुरी तरह हार गए अब से जो मैं बोलूंगा तुम वही करना। लोमड़ी को एक सुखा घाट चढ़ते हुए गधा दिखा लोमड़ी ने बोला उस गधे को मैं मूर्ख बनाकर यहां लाता हूं और तुम फिर के पीछे छुप जाओ। गधा जैसे ही आएगा तुम उस पर हमला कर देना। लोमड़ी गधा के पास जाती है उससे अपना मित्र बना लेता है और उससे खाने के लिए फल भी देता है और बोला तुम्हें और फल और हरी हरी घास खाना है तो चलो उस तरह गधा लालच में उसके साथ चल पड़ता है दोनों ही बहुत खुश रहते हैं गधा हरी- हरी घास और फल खाने के लिए खाने के सोचकर खुश था लोमड़ी गधे का मांस खाने के लिए खुश हो रहा था। लोमड़ी गधे को पेड़ के पास ले आया और से उस पेड़ के पीछे छुपा था शेर को मौका मिलते ही गधा पर हमला कर दिया वहां धूल बहुत था गधा अपना जान बचाने के लिए छट- पटाया तभी शेर के आंख में धूल चला गया मौका देखकर गधा वहां से भाग गया और लोमड़ी उस गधे के पीछे भागा और उसे रोका और बोला कि तुम भाग क्यों रहे हो वापस चलो एक गधी तुम्हारी इंतजार कर रही है तुमसे शादी करने के लिए वह गधा लोमड़ी कब बाद में आ गया। अपना सीना चौड़ा और सीटी बजाते हुए हीरो की तरह चल पड़ा तब शेर उसका शिकार कर लेता है और उसे मार देता है कैसे उसे खाने वाला रहता है तभी लोमड़ी बोला पहले तुम जाओ उस तालाब में हाथ मुंह धो कर आओ तब तक मैं इसका रखवाली करता हूं चला जाता है और इधर लोमड़ी गधा का मांस लेकर भाग जाती है जब तक शेर आता है तब तक वह गायब हो जाती है।